केंद्र सरकार ने Whatsapp New Privacy Policy का किया विरोध

केंद्र सरकार (Central Government) ने दिल्ली हाई कोर्ट से आग्रह किया है कि वह व्हाट्सएप (Whatsapp) को उसकी नई गोपनीयता नीति (Whatsapp New Privacy Policy) को लागू करने से रोके. सरकार ने कहा कि व्हाट्सएप की नई नीति की वजह से नागरिकों के डेटा मिसयूज का खतरा बढ़ जाएगा. 

केंद्र सरकार ने हाई कोर्ट में दिया एफिडेविट

केंद्र सरकार ने Whatsapp New Privacy Policy का किया विरोध

कोर्ट में शुक्रवार को हुई सुनवाई में केंद्र सरकार ने एफिडेविट पेश किया. इस एफिडेविट में केंद्र सरकार ने कहा, ‘यह विनम्रतापूर्वक प्रार्थना की जाती है कि व्हाट्सएप (Whatsapp) को अपनी नई गोपनीयता नीति (Whatsapp New Privacy Policy) को लागू करने से इस माननीय न्यायालय द्वारा प्रतिबंधित किया जा सकता है.’ बता दें कि 2 फरवरी को हुई सुनवाई में कोर्ट ने व्हाट्सएप की नई गोपनीयता नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा था. जिसके बाद सरकार ने अपना जवाब दाखिला किया है. 

डॉ सीमा सिंह ने दाखिल की है याचिका

इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दाखिल करने वाली डॉ सीमा सिंह ( Dr Seema Singh) ने कहा कि व्हाट्सएप (Whatsapp) ने यूजर्स को फेसबुक के साथ डेटा साझा करने के लिए अपनी सहमति देने या 8 फरवरी के बाद उनके अकाउंट बंद करने की धमकी दी थी. हालांकि, यूजर्स के भारी विरोध के कारण 15 मई तक इस नीति पर रोक लगा दी गई है.

डेटा सुरक्षा के लिए निर्देश देने का आग्रह

Central government opposes Whatsapp New Privacy Policy

डॉ. सीमा सिंह ने याचिका में कहा कि डेटा के संबंध में कानून काफी हद तक सीमित है. इसे विनियमित करने के लिए एक कार्ययोजना बनाने की जरूरत है. याचिका में भारत में काम करने वाले सभी ऐप और संगठनों से नागरिकों की डेटा सुरक्षा करने के लिए अदालत से सरकार को निर्देश देने की मांग की गई है. 

लोगों को गोपनीयता नीति का विकल्प की मांग

याचिकाकर्ता ने हाई कोर्ट से यह भी आग्रह किया कि वह व्हाट्सएप (Whatsapp) को अपनी नई नीति (Whatsapp New Privacy Policy) को वापस लेने या 4 जनवरी, 2021 की गोपनीयता नीति से बाहर निकलने का विकल्प प्रदान करे. जिन्होंने गोपनीयता नीति को स्वीकार कर लिया है, उन्हें भी इससे बाहर निकलने का विकल्प प्रदान किया जाए. अब केंद्र सरकार (Central Government) का जवाब आ जाने के बाद हाई कोर्ट इस मामले में अगली सुनवाई करेगी. 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,160FansLike
500FollowersFollow
800FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles

%d bloggers like this: